How To Get Palm Reading Report Online

Send Me Your Palm Images To Get Detailed Palm Reading Report -
Full Procedure

You can learn secrets of Indian palmistry in this palmistry blog and apply them but you need lots of practice. Learn important palmistry combinations here. The secret is in your hand, palmistry and professional palmistry secrets revealed.

Saturday, March 24, 2018

Half Moon Sign From Both Hand's Heart Lines Palmistry

Half Moon Sign From Both Hand's Heart Lines Palmistry

Half Moon Sign From Both Hand's Heart Lines Palmistry

As per Indian Palmistry if you join both hands (as above image) together the heart line make half moon which indicates Good Marriage.

Tags:
full moon in hand, half moon in palm in hindi, moon line on palm, half moon meaning in hindi, half moon on heart line, full moon in hand means, full moon on palm meaning, full moon formation by joining both palms prediction

Related Posts

  1. Detailed Reading Of Marriage Line With Images
  2. Murder Of Life Partner
  3. Signs Of Sex And Impotency
  4. Meaning Of Parallel Marriage Lines
  5. Diseases And Marriage Line
  6. Meaning Of Mole On Boobs 
  7. विवाह रेखा का चित्रों के साथ मतलब | Vivah Rekha 
  8. Mole On Marriage Line
  9. Sign Of Getting Married To Rich
  10. Mole On Hand
  11. Meaning Of Long Marriage Line
  12. Meaning Of Mole On Penis
  13. Reason Of Delay In Marriage
  14. Children Lines On Hand
  15. 5 Signs Of Bad Marriage - Divorce - Breakup
  16. Sign Of Unmarried Or Bachelor 

Break In Marriage Line Palmistry

Break in marriage line not always indicates divorce. It could also be separation for some time due to any reason job, etc.

Break In Marriage Line Palmistry

Break in marriage line not always indicates divorce. It could also be separation for some time due to any reason job, etc. 

Mostly break in marriage line indicates separation due to difference of opinion or interference from in-laws in their married life.

If big break in both hands then there are chances of divorce but you need to also check other signs on hand.

If there is a thin small line above break then there are less chances of separation.




हस्तरेखा शास्त्र में चौथी (4th) तरह की भाग्य रेखा | Bhagya Rekha Jyotish Hast Rekha Shastra

ज्योतिष शास्त्र में हाथ में दस प्रकार की भाग्य रेखा का विवरण | 10 Types Of Fate Line On Hand Palmistry

भाग्य रेखा की सीरीज में हम इस पोस्ट में चतुर्थ प्रकार की भाग्य रेखा की बात करेंगे। आप बाकी की 1 से 10 तक की भाग्य रेखा का विवरण और उनका आपस में सम्बन्ध यहाँ पढ़ सकते है " हस्तरेखा " ।
भाग्य रेखा की सीरीज में हम इस पोस्ट में चतुर्थ प्रकार की भाग्य रेखा की बात करेंगे। आप बाकी की 1 से 10 तक की भाग्य रेखा का विवरण और उनका आपस में सम्बन्ध यहाँ पढ़ सकते है " हस्तरेखा " ।  

चतुर्थ प्रकार की भाग्य रेखा वह रेखा कहलाती है जोकि मंगल क्षेत्र से निकलकर, यम क्षेत्र को होती हुई मस्तक रेखा को पार कर हृदय रेखा से निकल शनि क्षेत्र में प्रविष्ट होती है। यदि यह रेखा शनि क्षेत्र तक ही निर्दोष सीमित रहे तो मनुष्य के लिये, महत्त्वपूर्ण मार्ग का प्रदर्शन करने वाली होती है। 

ऐसी रेखा से युक्त हाथ वाला मनुष्य चाहे जितना भी परिश्रमी उद्यमी तथा उद्योगी हो फिर भी वह अपने यौवन के आरम्भ काल तक कोई विशेष उन्नति नहीं कर पाता क्योंकि उसकी भाग्य रेखा का प्रारम्भ जीवन काल में देर से होता है। यदि वह मनुष्य विद्यार्थी जीवन व्यतीत कर रहा है तो परीक्षाओं में सफलता बहुत देर से प्राप्त होगी यदि परीक्षा में उत्तीर्ण होता भी रहे तो परीक्षा परिणाम फल निम्न कोटि का ही रहेगा। यदि कोई मनुष्य इसके प्रतिकूल उन्नति करता है तो दूसरी सहकारी रेखाओं का पूर्ण रूप से सहयोग प्राप्त समझना चाहिए। 

अन्यथा केवल भाग्य रेखा के आश्रय तो उसका जीवन, चाहे निर्धनता के कारण या किसी देवी आपत्ति के कारण, या फिर अपनी ही भूल के कारण या कुसंगति के कुप्रभाव के कारण श्रमसाध्य होने पर भी कष्टसाध्य ही रहेगा। ऐसे व्यक्ति को अपने पुरुषार्थ के अधिकतम भाग को परिश्रम द्वारा कार्यान्वित करते रहने पर भी न्यूनतम सफलता का ही उपभोग प्राप्त होता है। 

किन्तु फिर भी इसका यह अर्थ कभी नहीं है कि ऐसे लक्षणों से युक्त मनुष्य का कभी भाग्योदय होगा ही नहीं या वह कभी अपने जीवन में सुख का अनुभव करेगा ही नहीं। वह उन्नति करेगा और अवश्य करेगा किन्तु यह समय उसके यौवन के मध्य या अन्तिम भाग से प्रारम्भ होकर जीवन पर्यन्त रहेगा, बशर्ते कि उसको कोई ऐसी अवरोध रेखा न काटती हो या रोकती हो जो कि उसके जीवन पथ को कंटकाकीर्ण बना कर उसे पथ से अष्ट करने में समर्थ हो जाय । ऐसा व्यक्ति, किसी सामर्थज्ञान मनुष्य की सहायता से ही अपने जीवन मार्ग को उन्नति की ओर ले जाता है।

यह एक निर्विवाद बात है कि ऐसे लक्षणों से युक्त मनुष्य को जब से उसको भाग्य रेखा का प्रारम्भ होता है, एक धनिक, हृष्ट, पष्ट, बलवान तथा प्रभावशाली मनुष्य का सहयोग प्राप्त होगा जोकि उसके समस्त कायों में सहायता प्रदान कर उसके जीवन को सफल इनाये बिना नहीं रह सकता। वह मनुष्य पुलिस तथा सैनिक विभाग में नौकरी करने, व्यापारी होने पर लाल वस्त्र तथा लाल ही वस्तुओं के व्यवसाय से ही लाभ भी प्राप्त हो सकता है और वह अपने जीवन को भविष्य में सुख और शान्ति से व्यतीत करने में पूर्णतया सफल हो सकेगा। ऐसे मनुष्य ईर्षालु तथा झगड़ालु स्वभाव के होने पर भी दयालु तथा धार्मिक प्रकृति के होते हैं।

ये लोग, पूजा पाठ, जप-तप मंत्र-तंत्र स्वाध्याय आदि पर पूर्ण आस्था रखते हैं और आन को निभाने के लिए प्राणों की भी परवाह नहीं करते। यदि इस प्रकार की भाग्य रेला मंगल क्षेत्र से बकर मस्तक रेखा पर ठहर जाती है तो समझना चाहिए कि उस मनुष्य ने अपने मस्तिष्क की चपलता से; शीष की चोट के कारण या किसी उन्माद या पागलपन के कारण, उस बाहरी सहायता को ठुकरा दिया है जोकि उसकी पथ प्रदर्शक थी।

यदि इसी प्रकार यह रेखा हृदय रेखा से आगे न बढ़कर वहीं रुक जाती है तो समझना चाहिये कि इसके हृदय की मलिनता, उदासीनता, चंचलता, प्रेमोन्माद ने इस मनुष्य को इसके उन्नति पथ से दूर हटा दिया है। ये लेख भारत के प्रसिद्ध हस्तरेखा शास्त्री नितिन कुमार पामिस्ट द्वारा लिखा गया है अगर आप उनके दवारा लिखे सभी लेख पढ़ना चाहते है तो गूगल पर इंडियन पाम रीडिंग ब्लॉग को सर्च करें और उनके ब्लॉग पर जा कर उनके लिखे लेख पढ़ें । या किसी को मोह उसके उन्नति पथ पर बाधक रहा है ऐसा समझना चाहिये और यदि यह रेखा बिना विरोध, शनि क्षेत्र पर स्वतः ही ठहर जाती है तो इच्छापूर्वक किसी भी एक दिशा में उन्नति करेगा।

इसकी मध्यमावस्था सुख और शान्ति से व्यतीत होगी और वृद्धावस्था उदासीन तथा उदार रहेगी। इस रेखा का टूटकर आगे बढ़ना सहसा आपत्ति का आना प्रदर्शित करता है। विरोधी रेखाओं का काटना, इसका लहरदार होना रेखा में द्वीप पड़ना, शृंखलाबद्ध होना, धन, जन, मन सम्पत्ति आदि की हानि को प्रदर्शित करता है। इन दोषों से निकलकर फिर सुन्दर, साफ और स्पष्ट भाग्य रेखा का हो जाना, विपत्ति से निकलकर फिर उन्नति को प्राप्त करने का साधन बन जाती है । 

इस रेखा का सहसा टूट जाना दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना को प्रत्यक्ष लक्षण है जोकि किसी समय भी आपत्ति ला सकता है।

धन रेखा | गजलक्ष्मी और महालक्ष्मी योग | Dhan Rekha Hastrekha

धन रेखा


धन रेखा को ले कर विद्धवानो में मतभेद है । कुछ विध्वान मस्तक रेखा को धन रेखा मानते है और धन का अनुमान मस्तक रेखा से लगाते है क्योंकि उनको मानना है की व्यक्ति अपनी बुद्धि और कौशल के बल पर ही धन का संचय करता है इसलिए मस्तक रेखा को ही धन की रेखा माना जाना चाहिए । कुछ विद्वानों का मत है की सूर्य रेखा ही धन की रेखा है क्योंकि सूर्य रेखा से ही व्यक्ति को मान-सम्मान और यश प्राप्त होता है और जिस व्यक्ति के हाथ में सबल सूर्य रेखा होती है वह धनि व्यक्ति होता है ऐसा व्यक्ति निर्धन परिवार में जन्म ले कर भी अमीर बन जाता है (जो की सूर्य रेखा का ही चमत्कार होता है ) इसलिए विध्वान सूर्य रेखा को ही धन रेखा मानते है । http://indianpalmreading.blogspot.in

कुछ विध्वान भाग्य रेखा को धन की रेखा मानते है क्योंकि भाग्य रेखा से ही व्यक्ति के अच्छे और बुरे समय का पता चलता है । भाग्य रेखा से ही व्यक्ति के रोजगार , व्यापार का पता चलता है । व्यक्ति किस समय असफल होगा और किस समय सफल होगा ये भाग्य रेखा से ही पता लगता है । व्यक्ति के जीवन में धन कब आयगा ये भाग्य रेखा से ही पता लगता है इसलिए व्यक्ति भाग्य रेखा को धन रेखा कहते है । 

कुछ विध्वान बुध रेखा या व्यापार रेखा को धन की रेखा मानते है क्योंकि उनका मानना है की बुध रेखा व्यक्ति के स्वास्थ्य और व्यापार में सफलता को बताती है । यदि बुध रेखा स्पष्ठ है तो व्यक्ति को व्यपार में और विदेश में अप्रत्याशित सफलता मिलती है । नितिन कुमार पामिस्ट  

अंततः हमारा ये मानना है की भाग्य और सूर्य रेखा को ही धन की रेखा माना जाना चाहिए क्योंकि सूर्य रेखा से व्यक्ति को यश मिलता है और सौभाग्य में बढ़ोत्तरी होती है और भाग्य रेखा से व्यक्ति के अच्छे और बुरे समय का अनुमान लगता है ।


Hath Mein Mahalaxmi Yog Kaise Banta Hai

Sabse pehly yaha ye batana awasyak hai ki Mahalaxmi yog ka matlab ye hai ki vykti raja ke saman apni jindgi jeeta hai aur usko sabhi sukh apne jeevan mein dekhne ko milte hai lekin Raja ka arth yaha par ye nahi hia ki vykti hakikat mein Raja ban jaayga balki ye arth ki wah vykti raja ki bhaanti sabhi sukho ka aanad lega.

आज इस पोस्ट को सबसे ज्यादा बार पढ़ा गया 
Mahalaxmi yog ke hone ke sath sath vykti ke hath mein dosare yog bhi acche hone chahiye warna mahalaxmi yog ka poora fal vykti ko nahi mil pata hai.

Yadi aapki surya rekha aapki bhagya rekha se shuru ho rahi hai to yeh "Mahalaxmi Yog" kahlata hai.  Aise vykti ko ucch-pad prapt hota hai, jeevan mein jaldi safalta prapt hoti hai, achanak dhan labh hota hai aur aisa vykti ameer hota hai.  Desh aur videsh mein naamcheen hota hai aur bhraman karta hai.

Aisa vykti sarkar mein kisi badein pad par aaseen hota hai ya rajneeti mein safal vykti (neta) hota hai.  Aisa vykti safal or famous yani popular abhineta, doctor, policeman, judge, etc kuch bhi ban sakta hai.

Lekin yadi surya rekha doshyukt hai ya bhagyarekha doshyukt hai matlab aadi-trichi rekho ne kaat rakha hai to phir is yog mein kami aa jaati hai aur vykti ko pura labh nahi mil pata hai.


हथेली में गजलक्ष्मी योग

जिस मनुष्य के दोनों हाथों में भाग्य रेखा मणिबंध से प्रारंभ हो कर सीधी शनि पर्वत पर जा रही हो तथा सूर्य पर्वत विकसित होने के साथ-साथ उस पर सूर्य रेखा भी पतली, लंबी तथा लालिमा लिए हुए हो और इसके साथ ही मस्तिष्क रेखा, स्वास्थ्य रेखा तथा आयु रेखा पुष्ट हों, तो उसके हाथ में गजलक्ष्मी योग बनता है। जिसके हाथ में गजलक्ष्मी योग होता है, वह व्यक्ति साधारण घराने में जन्म ले कर भी उच्चस्तरीय समान प्राप्त करता है। इसके साथ ही वह अपने कायाँ से पहचाना जाता है। आर्थिक एवं भौतिक दृष्टि से ऐसे व्यक्तियों के जीवन में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं रहती।

Hatheli Mein Gajlaxmi Yog

Jis insaan ke dono hatho mein bhagya rekha manibandh se shuru ho kar shani parvat par jaa rahi ho aur surya parvat viksit hone ke sath sath surya rekha bhi bahut acchi ho aur iske sath hi mastak rekha , swasthya rekha aur aayu rekha bhi acchi ho to uske hath mein gajlaxmi yog banta hai. Jis ke hath mein gajlaxmi yog hota hai vo insaan middle class ya lower middle class ghar mein bhi janam le kar ke bhi bada insaan ban jata hai aur samaaj mein kaafi naam aur sohrat hasil karta hai.

Chandra Parvat - Hast Rekha Shastra

Chandra parvat ka ubhar adhik hone pr vykti aalsi ho jata hai tatha khyali pulaav pakaane lagta hai.

Chandra Parvat Ka Ubhar

1. Ativiksit:- Chandra parvat ka ubhar adhik hone pr vykti aalsi ho jata hai tatha khyali pulaav pakaane lagta hai. Kabhi kabhi hath ke anya lakshan khrabh ho to pagalpan ki harkein karna, swayam hi badbadana itayadi batein bhi ghathit hoti hai, kahane ka matlab manorogi hota hai.

2. Aviksit:- Chandra parvat dabba hua ho to kalpanao ka abhaav, durdrishta nahi, naye awam molik vicharo ka abhaav, swarth awam nisthurtha ki bhavna bad jaati hai. (Nitin Kumar Palmist)

3. Bimariya:- Chandra parvat par bimari ki chinha hone pr vykti chidchida, sirdard, pagalpal, daurey padna, pathari hona, aato ki bimari, mootra rog aur madhumeh.

4. Rojgaar:- Kala, kaavya, jaliya vyvsaay, yatra sambhandhit naukari, sikhshak, aur lekhan.

Lottery Lagegi Kya? Agar Lottery Khelte Ho To Dekho Apna Hath | Hast Rekha

जुआरी का हाथ हस्तरेखा | Hast Rekha

Lottery Lagegi Kya? Agar Lottery Khelte Ho To Dekho Apna Hath | Hast Rekha

क्या मेरी लाटरी (lottery) लगेगी ? ज्योतिष और हस्तरेखा क्या कहती है ?

जुआ खेलना पाप माना जाता है क्युकी इंसान अपनी गाडी मेहनत की कमाई लाटरी और जुआ में हार जाता है। लेकिन किस्मत और हाथ की रेखा और बनावट इंसान को मजबूर कर देती है की वो लाटरी और जुआ खेले और मजे की बात ये है की अगर भाग्य प्रबल है तो व्यक्ति जुआ में हारता नहीं और भाग्य कमज़ोर है तो व्यक्ति जुआ में हार जाता है यानी बर्बाद हो जाता है।

सामुद्रिक शास्त्र में एक ऐसा ही योग बताया गया है जो यदि किसी व्यक्ति के हाथ में है तो वह जुए और शॉर्टकट से ही पैसा बनाता है। वह मेहनत कर के पैसा नहीं बना सकता है।

कौन सा योग है जो व्यक्ति को जुआरी बना देता है ?

जिस व्यक्ति के हाथ में रवि रेखा बहुत शानदार हो और मस्तक रेखा जंजीरदार हो और साथ में अनामिका (सूर्य की ऊँगली) और मध्यमा (शनि की ऊँगली) की लम्बाई बराबर हो मतलब अनामिका ऊँगली की लम्बाई मध्यमा ऊँगली के बराबर हो तो ऐसा व्यक्ति जुआरी होता है । 

ऐसा व्यक्ति ईमानदारी या मेहनत कर के पैसा नहीं कमा सकता है और ऐसा व्यक्ति अपना सबकुछ दाव पर लगा देने वाला होता है और ऐसे व्यक्ति में खास बात यह होती है की ऐसा व्यक्ति कभी सट्टे में जीतकर तो कभी हार कर अपना हिसाब बराबर ही रखता है ।

हाथ में गरीब और अमीर होने के चिन्ह और योग भी होते है उनको भी पढ़ें -

हाथ में अमीर बनने और गरीब होने के योग या कारण - हस्तरेखा से जाने

प्रेम विवाह हस्तरेखा | Prem Vivah Hastrekha

प्रेम विवाह हस्तरेखा | Prem Vivah Hastrekha
प्रेम विवाह का योग हस्तरेखा (Love Marriage Sign On Hand)

प्रेम विवाह का योग हस्तरेखा (Love Marriage Sign On Hand)

यदि उपरोक्त चित्र जैसे आपके हाथ में भी बना हुआ है तो आपका प्रेम विवाह हो सकता है। भाग्य रेखा के साथ जब भी चंद्र पर्वत से प्रभाव रेखा आ कर मिल जाती है तब व्यक्ति पर विपरीत लिंग का प्रभाव पड़ता है। अधिकतर ऐसे में व्यक्ति का प्रेम विवाह होता है या फिर व्यक्ति की उन्नति किसी विपरीत लिंग के व्यक्ति के प्रयासों और मदद से होती है।

ये योग व्यक्ति को देश विदेश में यात्रा भी करता है क्युकी चंद्र पर्वत यात्रा का कारक भी है।

यदि आप अधिक जानकारी चाहते है तो नीचे दिए गए लिंक को भी अवश्य पढ़ें -

Related Posts

ONLINE PALMISTRY READING




SEND ME YOUR PALM IMAGES FOR DETAILED AND PERSONALIZED
PALM READING




Question: I want to get palm reading done by you so let me know how to contact you?


Answer: Contact me at Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in.

Question: I want to know what includes in Palm reading report?

Answer: You will get detailed palm reading report covering all aspects of life. Past, current and future predictions. Your palm lines and signs, nature, health, career, period, financial, marriage, children, travel, education, suitable gemstone, remedies and answer of your specific questions. It is up to 4-5 pages.



Question: When I will receive my palm reading report?

Answer: You will get your full detailed palm reading report in 9-10 days to your email ID after receiving the fees for palm reading report.



Question: How you will send me my palm reading report?

Answer: You will receive your palm reading report by e-mail in your e-mail inbox.



Question: Can you also suggest remedies?

Answer: Yes, remedies and solution of problems are also included in this reading.


Question: Can you also suggest gemstone?

Answer: Yes, gemstone recommendation is also included in this reading.


Question: How to capture palm images?

Answer: Capture your palm images by your mobile camera
(Take image from iphone or from any android phone) or you can also use scanner.


Question: Give me sample of palm images so I get an idea how to capture palm images?

Answer: You need to capture full images of both palms (Right and left hand), close-up of both palms, and side views of both palms. See images below.






Question: What other information I need to send with palm images?

Answer: You need to mention the below things with your palm images:-

  • Your Gender: Male/Female

  • Your Age:

  • Your Location:

  • Your Questions:

Question: How much the detailed palm reading costs?

Answer: Cost of palm reading:


  • India: Rs. 600/-

  • Outside Of India: 20 USD
( For instant palm reading in 24 hours you need to pay extra Rs. 500 or 15 USD )
(India: 600 + 500 = Rs. 1100/-)
(Outside Of India: 20 + 15 = 35 USD)

Question: How you will confirm that I have made payment?


Answer: You need to provide me some proof of the payment made like:

  • UTR/Reference number of transaction.

  • Screenshot of payment.

  • Receipt/slip photo of payment.

Question: I am living outside of India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for International Clients:

International clients (those who are living outside of India) need to pay me 20 USD via PayPal or Western Union Money Transfer.

  • PayPal (PayPal ID : nitinkumar_palmist@yahoo.in)
    ( Please select "goods or services" instead of "personal" )

  • PayPal direct link for $20 (You will get reading in 9/10 days) - PayPal Payment 20 dollars
    PayPal direct link for $35 (You will get reading in 24 hours) - PayPal Payment 35 dollars
  • Western Union: Contact me for details.

Question: I am living in India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for Indian Clients:

  • Indian client needs to pay me 600/- Rupees in my SBI Bank via netbanking or direct cash deposit.

  • SBI Bank: (State Bank of India)

Nitin Kumar Singhal
A/c No.: 61246625123
IFSC CODE: SBIN0031199
Branch: Industrial Estate

City: Jodhpur, Rajasthan.
  • ICICI BANK:
(Contact For Details)

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in






Client's Feedback - May 2018



If you don’t have your real date of birth then palmistry is there to help you for future life predictions.  Our palm lines, signs, mounts and shapes which are very useful in predicting the person’s life. We can predict your future from the lines and signs of your both palms. We can predict your future by studying your palm lines and signs. There is no need to send us your date of birth , time of birth , place of birth etc . Palm told the personality ,future ups and downs thus a experienced palmist can guide you to deal with upcoming challenges with vedic remedies.