Monday, September 29, 2014



Hand Of Devraha Baba (Ageless Yogi) Palm Reading



Amazing Longevity

Devraha Baba -


250+ Years Old





  1. Devraha Baba
    Saint
  2. Devraha Baba, also spelled Deoraha baba was an Indian Siddha Yogi saint who lived beside the Yamuna river in Mathura. He was known as "ageless Yogi with a secular image". He was known as a sadhu who preached harmony between religious communities.  Wikipedia



Adhbhut Totka Vyapar Aur Dhan Vridhi Ke Liye (Remedy for Business)








Jo log apne dhande (business) ko le kar kaafi paresan hai aur jin logo ka vypaar chal nahi raha hai, dukaan mein bikri ya grahak nahi hai, aise log is upay ko kar ke labh utta sakte hai.


Ye upay behad saral hai aur is mein koi kharcha nahi hai.  Is totke ko karne ke kuch hi dino baad aapko apne dhandhe mein farak najar aane lag jaayga.  Aapka business chamakne lag  jaayga.  Jaha aapki dukaan mein tala lagane ki naubat aa rahi thi waha aapki dukaan kaafi acchi chalane lagegi.

Aapko shaniwar ke din peepal ke ped se patta (leaf) tod lena hai (aapko neeche pada hua patta nahi uttana hai).  Us peepal ke patte ko aapko gangajal se dho lena hai aur phir ek plate mein rakh kar apne bhagwan ya ishth devta ke saamne rakh dena hai aur phir aapko gaytri mantra ka jaap 21 baar karna hai aur phir us peepal ke patte ko aapko apne locker mein rakh dena hai (jaha pr aap paise rakhte hai).  Aap dukhaan ke locker mein bhi rakh sakte ho aur ghar ke locker mein bhi rakh sakte ho. Aap ye upay dukaan mein bhi kar sakte ho aur  ghar mein bhi kar sakte ho. (Nitin Kumar Palmist)

Aapko ye upay har shaniwar karna hai.  Aapko purana patta us hi peepal tree mein rakh dena hai aur naya patta tod lena hai aur us naye patte ko kriya kar ke locker mein rakh lena hai.  Is tarah har shaniwar aapko aisa karna hai.  Purana patte (leaf) ko naye patte se badal dena hai. (http://indianpalmreading.blogspot.com)

Gaytri Mantra:






Sunday, September 28, 2014



Practical Palmistry Case: Fate Line Starts From Age 28




In the above palm image Fate line starts from age 27/28 indicates career starts from age 27/28.


Wednesday, September 24, 2014



Mole (Til) on Hand - INDIAN PALM READING




TIL (MOLE)


There are different types of Til (moles) found in palms like white, red, yellow, dark red, blue, brown, black, etc. These have varying size (some large and some small). Some of these moles have permanent effect and some are temporary (disappear after giving result). These have different positions and locations and have different results for different positions on palm (like on mounts, fingers, on lines, etc.).

Also Read This Amazing Post - Meaning Of Moles On Every Body Parts

Most of the til (moles) indicates diseases, accident or bad phase in life. It needs a lot of experience and practice to identify the correct location and type of mole and its effects.

black mole meaning, black mole on hand, black mole on body, black mole on lips, black mole on palm, black mole, mole palmistry, brown mole


TYPES OF TIL (MOLES)

White mole—It is good. It is temporary (mostly found on nails).


Red mole—These are not good. Mostly indicate sudden accident.Yellow mole—These are not good. Mostly indicate blood related disease, blood loss, anemia. These are temporary.



Black mole—These are mostly not good but good in some positions. If a black mole is present inside of the palm (i.e, when you make a fist it should not be left outside) then the person is very lucky. These indicate a lot of income but the person is not able to save money. If a black is present for some time and disappears later then it indicates problems in the period while it was present.


Brown mole—These are similar to black moles but these are less effective than black moles.Out of all the above described til (moles) black moles are the ones that are found most.


BLACK MOLES ON MOUNTS

   
Guru parvat (Mount of Jupiter)—Not good. Person could have difficulty in getting married or in married life. Not getting desired success. Deception.


Shani parvat (Mount of Saturn)—Not good. Luck not favors. Person may commit suicide. Aloof. Deception.


Ravi parvat (Mount of Sun)—Defamation. Eye problems.Budh parvat (Mount of mercury)—Restless. Cheater. Problems in married life and with children.


Mangal parvat (Mount of mars)—Head injury. Coward. Suicidal tendencies.


Chandra parvat (Mount of moon)—Late marriage, sinus and mental issues.


Shuker parvat (Mount of venus)—Sexual diseases and other venus related problems.


Ketu parvat (Mount of ketu)—Illnesses in childhood or troublesome childhood.


Rahu parvat (Mount of Rahu)—Not good. Problems related to money, business. At age 30 to 36 person gets a big loss.




MOLES ON LINES


Moles present on lines varying results according to there position on the lines (like present at start, middle, or end of line)Time (age) can be calculated according to position of mole on line.

Jeevan Rekha (Life line)—Indicates health problems.

Mastak Rekha (Head line)—Accident, head injury, or head problem.


Hirdya Rekha (Heart line)—Heart problems. Deception and defamation in love.

Ravi Rekha (Sun line)—Unsuccessful. Defamation.

Bhagaya Rekha (Fate line)—Loner. Bad family relations or loss of money.

Swastaya Rekha (Health line)—Diseases in this time. Bankruptcy.


Vivah Rekha (Marriage Lines)—Not good for marriage/children.


Mangal Rekha (Mars Line)—Coward.


Chandra Rekha (Line of Intuition)—Not getting success and fame.


Yatra Rekha (Travel line)—Loss from traveling.


MOLES ON FINGERS


Mostly results are same as for moles present on mounts except for some differences.


However, when reading palms it should always be kept in mind that no statement should be made based on the moles alone.


Other factors also need to be considered because results of moles are not always correct for each person.



Tuesday, September 23, 2014



Rahu Remedies For Ill-Health, Bad Luck, Evil Eye, & Conspiracies







1. Hang or place Rahu Yantra in South West direction of your house on Saturday.

2. Wear Gomed (black hessonaite) in silver ring, in middle finger, on Saturday.

3. Wear 8 mukhi Rudraksh in neck.

4. Donate urad daal, and black til (sesame).


5. Give sugar to ants.

6. Take alcohol (wine, brandy or rum, etc) bottle with some uncooked rice in it. Keep the bottle in South West direction of the house on the eve of new moon day (Amavasya) and on the night of new moon day (amavasya) take this bottle to a place where four roads meet (chauraha) and smash the bottle there and return back to home. 




Saturday, September 20, 2014



Hand Image Of Om Prakash Chautala Palmistry







Wednesday, September 17, 2014



हस्तरेखा और बीमारिया और उनका इलाज (Hast Rekha Aur Bimariya Aur Unka Ilaaj)



हस्तरेखा और बीमारिया और उनका इलाज  (Hast Rekha Aur Bimariya Aur Unka Ilaaj)


हस्तरेखा शास्त्र (Hast Rekha Shastra) मानव के सम्पूर्ण स्वभाव के साथ आन्तरिक व बाहरी शारीरिक क्षमताओं और स्वास्थ्य की भी जानकारी देने में मददगार होता है। आज मनुष्य अनेकों रोगों से ग्रसित है भयभीत है उसे हमेशा यह भय व्याप्त रहता है कि कहीं मुझे अमुक रोग न हो जाए। उस परिस्थिति में व्यक्ति अपने हाथ के द्वारा होने वाले रोगों की पूर्व जानकारी प्राप्त कर सकता है। प्रस्तुत लेख हस्तरेखा ज्ञान पर आधारित है इसका अध्ययन करने के पहले निम्न अंगो पर भी ध्यान देना आवश्यक होगा। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

1.  केवल एक चिन्ह लक्षण को देखकर अमुक रोग हो जाएगा ऐसा निर्णय करना हमेशा उचित नहीं रहता है।
2.  यहाँ दिए गए लक्षणों को अच्छी तरह से परखने के बाद ही निर्णय लेना उचित होगा।
3. विशेष परिस्थिति में अच्छे ज्योतिर्विद के द्वारा अवश्य सलाह लें। (Nitin Kumar Palmist)

शारीरिक दुर्बलता-

1. यदि नाखून पतले हों तथा जीवन रेखा फीकी हो साथ ही वह जंजीरदार होकर नीचे की ओर झुकी हुई हो।
2. ज्यादातर कोमल हाथ दुर्बलता का सूचक होता है।
3, शनि पर्वत पर अधिक गहरापन आन्तरिक व्यक्तियों को क्षीण करता है। यदि इसके साथ ही सूर्य पर्वत शनि पर्वत की ओर झुका हो तो मेहनती नहीं बनने देता है।
4, हाथ के मध्य में अधिक गहराई हो, हाथ वर्गाकार हो, शनि पर्वत दबा हो, गुरु पर्वत अधिक उठा हो तो शारीरिक स्थूलता होती है। आन्तरिकरूप से शरीर कमजोर होता है। सूर्य पर्वत पर दोष होने पर शरीर  जल्दी थक जाता है। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

बचपन में दुर्बलता-
यदि गुरु रेखा बहुत अधिक मोटी हो और गुरु पर्वत के नीचे जंजीरदार हो गई हो।

वंशानुगत रोग-

वंशानुगत रोगों में गुरु व सूर्य का सम्बन्ध अधिक पाया जाता है। गुरु पूर्वजों का कारक होता है यदि इस पक्ष पर जन्मकुण्डली की सहायता ली जाए तो इस पक्ष में स्पष्ट  जानकारी मिल जाती है। गुरु को ही मधुमेह रोग का कारक माना जाता है। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

1. जीवनरेखा के आरम्भ स्थल पर ही द्वीप का चिन्ह हो तो वंशानुगत रोग होते हैं।
2. गुरु पर्वत के दूषित होने पर भी वंशानुगत रोग होते हैं।
3. सूर्य पर्वत पर अशुभ चिन्ह वंशानुगत रोग कारक होते हैं।
4. मस्तिक रेखा द्वीप से प्रारम्भ हो।

             

Monday, September 15, 2014



Indian Social Activists Dr. Sunitha Krishnan









About Sunitha Krishnan

Actor/Director

Sunitha Krishnan, born in 1972, is an Indian social activist and chief functionary and co-founder of Prajwala, anon-governmental organization that rescues, rehabilitates and reintegrates sex-trafficked victims into society.

Early Life

Sunitha was born Bangalore, to Palakkad Malayali parents Raju Krishnan and Nalini Krishnan. She saw most of the country early on while traveling from one place to another with her father, who worked with the Department of Survey which makes maps for the entire country.


Sunitha was a precocious child. Her passion for social work became manifest when, at the age of 8 years, she started teaching dance to mentally retarded children. By the age of 12, she was running schools in slums for underprivileged children. At the age of 15, while working on a neo-literacy campaign for the Dalit community, Sunitha was gang raped by eight men. This incident served as the impetus for what she does today.

Sunitha studied in Central Government Schools in Bangalore, Mumbai, Delhi, and the Northeastern parts of India. After obtaining a Bachelor’s degree in environmental sciences from St. Joseph’s College in Bangalore, Sunitha completed her MSW (medical & psychiatric) from Roshni Nilaya, Mangalore and later her PhD in social work. To complete the fieldwork requirement for the doctorate, Sunitha took up the subject of the life of sex workers.




Hand Image Of Sushant Singh Rajput Palmistry




TAGS: hath kaise dekhe in hindi, lajward in hindi, palm reading love line, hast rekha for job, मंगल रेखा, lal kitab upay, manokamna purti totka, hast rekha for money, nitin kumar palmist, anamika anguli, अनामिका अंगुली, hasth rekha mounts in hindi, palmistry, www.recent palmreading.com, cheiro palmistry pdf in hindi download, fate line branches, find the love marriage line in our hand, hast rekha gyan in hindi with picture, indian palm reading, love cum arrange marriage line in palmistry, love marriage line in palm reading in hindi, marriage line, palm reading marriage line which age, 2 head lines palmistry, double brain line palmistry female and male, double date line from brain line, double head line in left hand meaning, double headline in palmistry, double line in mental line on palm, double line of head, double mind line palmistry, double mind line palmistry diagram, famous astrology palm image, line from mars plam reading, marriage line, palm reading no headline, palmistry of two joined head line, pic of double headline,



हाथ की बनावट प्रकार और गुण ( Hand's Structure & Properties Palmistry)



हाथ की रूपरेखा
indian palmsitry blog



हाथ का मस्तिष्क के हर भाग से सीधा सम्पर्क होता है। इसलिए वह न केवल सक्रिय विशेषताओं के सम्बन्ध में बताता है, बल्कि उन विशेषताओं का भी निर्देशन करता है जिनका विकास अभी होना है या जो अत्यधिक
प्रभावशाली है। जहां तक सामुद्रिक शास्त्र का प्रश्न है, चेहरा इतनी अधिक सरलता से नियन्त्रित हो जाता है कि उसे देखकर पूरी तरह सही निष्कर्ष नहीं हो पाता ।

अनेक व्यक्तियों  की हस्त रेखायें भिन्न-2 होती हैं क्योंकि सभी का चरित्र और विशेषता एक-दुसरे से भिन्न होता है। हस्त रेखा विज्ञान का अध्ययन करने से पहले हाथ का आकार-प्रकार का भेद जानना अत्यन्त आवश्यक है। मोटे तौर पर अपरचित व्यक्ति के चरित्र की कुछ बातों की जानकारी सीमित समय में हो सकती है। परन्तु विस्तृत जानकारी के लिए ज्यादा समय खर्च करना पड़ता है इसके निम्नलिखित भेद हैं।

1. प्रारम्भिक हाथ
2. वर्गाकार हाथ
3. दार्शनिक हाथ
4. कर्मठ हाथ
5. कलात्मक हाथ
6. आदर्श हाथ
7. मिश्रित हाथ आदि।


प्रारम्भिक हाथ


प्रारम्भिक हाथ के स्वामी प्राय: या तो सीमित बुद्धि के स्वामी होते हैं या फिर कम बुद्धि होती है, ऐसे लोगों का निम्न या साधारण व्यक्तित्व होता हैं। इस प्रकार के हाथ वाले कुछ लोग अपराधी, और बुद्धिहीन होते हैं।
इनकी मानसिक क्षमता न के बराबर होती है। क्योंकि जो थोड़ी बहुत बुद्धि इनमें होती भी है, उसका ये उपयोग नहीं करपाते तथा परिश्रम करने में भी ये लोग पीछे होते हैं।

ऐसे लोगों का हाथ देखने पर सरलता से ज्ञात जाता है कि तर्क और विचार नाम की वस्तु इनके पास नहीं होती। सिर्फ पीना, खाना, और वासना इनके जीवन का मुख्य उद~देश्य होता हैं। इस प्रकार की हथेली पहले वर्ण की अधिक पायी जाती हैं। अंगुलियाँ छोटी और कड़ी होती हैं। इनमें आवेग अधिक पाया जाता है तथा उसका नियन्त्रण करना इनके लिए बहुत कठिन होता है। ये लोग इस तर्क को मानते हैं कि- यावज्जिवेत~ सुखं जिवेत~ऋणं कृत्वा घृतं पिवेत~। यही इनका आदर्श वाक्य होता है। रंग, रुप, और संगीत पर ये ज्यादा गौर फरमाते हैं स्वास्थ्य और अध्ययन को बेकार समझते हैं। किसान, मजदूर, कारीगर, श्रमिक फेरी वाला, नाविक, कसायी, आदि श्रेणी के लोगों का हाथ इसी प्रकार का होता है। ऐसे हाथों के अंगुलियों का नाखून छोटे होते हैं।  (http://indianpalmreading.blogspot.com)

अगर ऐसा हाथ अध्ययन किया जाय, तो प्राय: अंगुलियों की लम्बाई लगभग हथेलियों के बराबर होती है। अगर हथेली की अपेक्षा अंगुलियों की लम्बाई अधिक होगी, तो वौद्धिक क्षमता अधिक होगी। कभी-2 कुछ
हाथ अविकसित होते हैं, जिनमें रेखाओं का अभाव होता है। अगर ऐसी स्थिति में गहन अध्ययन किया जाय तो हिंसक प्रवृत्ति उत्पन्न करने वाला हाथ कहा जा सकता है। इनमें इच्छाओं और कार्यों पर कोई नियन्त्रण नहीं होता। रुप रंग सौंदर्य आदि के प्रति भी ज्यादा रुचि नहीं होती तथा कुछ लोगों में धूर्तता भी पायी जाती है।


वर्गाकार हाथ


वर्गाकार हाथ की बनावट एक चतुष्कोण की तरह होता है, अंगुलियों का आकार भी वर्गाकार माना गया है। जीवन के विभिनन क्षेत्रों में इस प्रकार के हाथ पाये गये हैंं। इस प्रकार के हाथ के नाखून भी वर्गाकार लेकिन
कुछ छोटे होते है  इस प्रकार के हाथ के स्वामी अध्यवसायी एवं कर्मठ होते हैं। इस श्रेणी के व्यक्ति किसी का आदेश पालन करने में असफल होते हैं। ऐसे हाथ वाले दूरदर्शी होते हैं, धैर्यवान होते हैं। पुराने रीति रिवाजों में
फेरबदल करना इनका स्वभाव नहीं होता, जीर्ण-शीर्ण कपड़े भी पहन लेते हैं और अच्छे दिखते हैं। स्वत: के दैनिक आचरण से समय के पाबन्द और व्यवहार के खरे होते हैं। सत्ता का सम्मान और अनुशासन के प्रति ऐसे लोग ज्यादा लगाव रखते हैं। काल्पनिक लोगों से पटती नहीं और तर्क तथा कलह में इनकी हार कभी नहीं होती। इनको नियम और सिद्धान्त प्रिय होता है तथा जीवन में हर वस्तु के लिए स्थान होता है। हर काम को
रुचिपूर्ण करना इनका स्वाभाविक गुण होता है। ये विचारों की अपेक्षा सिद्धान्तप्रिय होते हैं। अल्पभाषी होने के साथ-2 इच्छा शक्ति की दृढ़ता और चारित्रिक शक्ति के कारण प्रत्येक क्षेत्र में सफल होते हैं वर्गाकार हाथों
में अनेक भेद होते हैं जैसे छोटी अंगुलियों का वर्गाकार हाथ, लम्बी अंगुलियों का गठीली, अंगुलियों वाला, शंकु के आकार की अंगुलियों वाला, मिश्रित अंगुलियों वाला, चपटा हाथ, आदि।


दार्शनिक हाथ


दार्शनिक हाथ के स्वामी महत्वाकांक्षी होते हैं तथा मानव जाति और मानवता में दिलचस्पी रखते हैं अंगेzजी भाषा में ऐसे हाथ को फिलास्पिकल हाथ की संज्ञा दी गयी है। इस शब्द की उत्पत्ति ग्रीक भाषा के फिलास
शब्द से हुआ है, जिसका अर्थ है प्रेम का अनुशरण और सोफिया शब्द का अर्थ है प्रबुद्धता दार्शनिक हाँथों की अंगुलियों में गांठे बाहर की ओर उठी होती है तथा नाखून कुछ लम्बे होते हैं। ऐसे लोगों को धनोपार्जन में काफी परेशानियाँ होती हैं। ऐसे लोगों में बुद्धि और ज्ञान का महत्व धन, सोने और चांदी से अधिक होता है तथा मानसिक विकाश के कार्यो में ज्यादा रुचि दिखाते हैं। अपने कार्य-कलाप, व्यापार, फैक्ट्री आदि में आवश्यता, पड़ने पर ठोस प्रमाण के लिए खूब छान-बीन करते हैं। यदि अंगुलियाँ नुकीली हांगी, तो हर कार्य चतुरायी से करने वाले होते हैं। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

सामाजिक और धार्मिक कार्यों में अग्रणी रहते हैं तथा सच्चायी को वरीयता देते हैं। ऐसे लोग यदि चित्रकार होते हैं तो उनकी कला में रहस्यवाद झलकता है। कवि होते हैं तो प्रेम और विरह की पीड़ा का वर्णन न होकर
दार्शनिक बातों का उल्लेख पाया जाता है। ये ज्ञान को ही शक्ति और अधिकार देने वाला मानते हैं और अन्य लोगों से भिन्न रहना चाहते हैं। जीवनवीणा के हर तार और उसकी धुन से ये परिचित होते हैं उद~देश्य पूर्ति
हेतु हर सम्भव प्रयास करते हैं तथा ऐसे हाथ भारत में ज्यादा देखने को  मिलते हैं। यदि दार्शनिक हाथ अधिक उन्नत एवं विकसित होता है तो ऐसे लोग धर्मात्मा बन जाते हैं और रहस्यवाद की सीमा पर अतिक्रमण कर जाते हैं। कुछ दार्शनिक हाथ कोमल और कुछ नुकीली अंगुली वाले होते हैं। इस प्रकार के हाथ वाले बातचीत में निपुण, हर विषय को समझने की क्षमता, तत्काल निर्णय की भावना, मित्रता, प्रेम, अनुराग में परिवर्तन की चेष्टा, भावुक सहसा क्रोधी, उदारता, सहानुभूति तथा कभी-2 स्वार्थी होते हैं। जब इस प्रकार का कठोर हाथ हो तो कलाप्रिय, दृढ़संकल्प, राजनीतिज्ञ, रंगमंच के ज्ञाता, होते हैं। गायिका का हाथ अगर इस प्रकार का हो तो 
गाने से पूर्व की तैयारी नहीं करती। स्पष्ट है कि इस प्रकार के हाथ वाले पूर्ण रुप से सोच-विचार कर कार्य नहीं कर पाते। इस प्रकार के लोगों का सबसे बड़ा गुण और शक्ति तत्कालिकता होती है तथा उनकी सफलता का
आधार भी यही होता है। अगर ऐसा ही हाथ अधिक नुकीला होता है तो सबसे अधिक भाग्यहीन हाथ माना जाता है, जबकि देखने में इसकी आकृति सब प्रकार के हाथों से सुन्दर होती है। तथा परिश्रम करने में ऐसे
लोग सर्वथा पीछे होते हैं तथा सपनों के संसार में विचरण करने वाले आदर्शवादी होते हैं एवं प्रत्येक वस्तुओं में सौंदर्य खोजते हैं। और पाने पर सम्मान करते हैं। समय की पाबन्दी व्यवस्था अथवा अनुशासन का कोई
महत्व नहीं देते तथा बड़ी आसानी से दूसरे के प्रभाव में आ जाते हैं। इच्छा न होने पर भी परिस्थियों के अनुसार परिवर्तित होना पड़ता है। प्राकृतिक रंगों के प्रति आर्कषण होता है। यथार्थ और सत्य की खोज करने
में असमर्थ होते हैं। संगीत तथा रस्मों से प्रभावित होते हैं। ऐसे सुन्दर और सुकुमार हाथों के स्वामी कभी-कभी स्वभाव से इतने भावुक होते हैं कि परिस्थितियों को देखकर सोचने लगते हैं कि उनका जीवन व्यर्थ है।
इसका परिणाम यह होता है कि मन:स्थिति में विपत्ति आ जाती है और जीवन के प्रति उदासीन हो जाते हैं। ऐसे लोगों को निरर्थक न समझ कर उन्हे प्रोत्साहित करना चाहिए तथा उन्हे स्वयं को उपयोगी बनाने हेतु
सहायता करनी चाहिए।


कर्मठ हाथ
कर्मठ हाथ में ऊपरी हिस्सा ¼अंगुलियों का क्षेत्र½ कुछ नुकीला होता है। मणिबन्ध और शुक्र ¼चन्दz पर्वत के आस-पास का भाग½ मांशलयुक्त एवं चौड़ा होता है। ऐसे हाथों के स्वामी ज्यादा समय तक लगातार कार्य करने
में असमर्थ होते हैं। कलात्मक कामों में ऐसे लोग ज्यादा सफल पाये गये हैं इन्हें स्वतन्त्र कार्य करने में ज्यादा रुचि होती है तथा किसी भी नये कार्य को परिश्रम पूर्वक पूरा करते हैं। ऐसे हाथ के स्वामी ज्यादातर बिzटेन और अमेरिका में पाये जाते हैं। ऐसे हाथ में अंगूठे और तर्जनी के मध्य ज्यादा खाली स्थान होने पर दया, प्रेम तथा मानवीय गुण ज्यादा होता है। इनमें यह विशेषता भी पायी जाती है कि कभी-2 अपना कार्य बड़ी चालाकी से दूसरों द्वारा सम्पन्न करवा लेते हैं। सुख-दुख का इन्हें ज्ञान होता है तथा देश भ्रमण करने के शौकीन भी होते हैं। इनमें कार्य के समय उत्साह नजर आता है। पराविज्ञान में इनकी न ही आस्था होती है न प्रेम तथा धर्म, योग में पीछे होते हैं। अगर अंगुलियां नरम होंगी तो थोड़ा चिड़चिड़ापन होगा। अगर यही अंगुलियाँ चपटी होगी तो नौकरी और सेवा कार्य की ओर ज्यादा झुकाव होगा। ऐसे हाथों के लोग भारत में हिमालय की पहाड़ियों तथा
उत्तरी क्षेत्रों में ज्यादा पाये जाते हैं। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

चमसाकार हाथ
जैसे नाम से ही जाहिर है कि चमसाकार अर्थात चम्मच जैसा हाथ, यानी जिस हाथ की आकृति चम्मच जैसी हो, अंगुलियों की बनावट भी आगे से चम्मच की तरह गोलाई लिये हो। इन हाथों का एक विशेष लक्षण यह है
कि इनकी अंगुलियों में छिद्र होते हैं। इन हाथों में लगभग सभी रेखाएं पायी जाती हैं। इनकी रेखाओं में कोई न कोई दोष अवश्य पाया जाता है। इनमें अंगुलियां और हथेली न बड़ी, न छोटी, अर्थात मध्यम होती हैं।


कोई एक अंगुली तिरछी या टेढ़ी होती है। चमसाकार हाथ वाली महिलाएं रूढ़िवादी नहीं होती हैं। ये हमेशा कुछ अलग कर दिखाने की फिराक में रहती हैं। इसलिए इन्हें जीवन में सफलता देर से मिलती है। इन्हें पारिवारिक सहायता या रिश्तेदारी से मदद कम मिलती है। अगर मंगल गृह उन्नत हो, तो ऐसे लोग वीर होते हैं। ऐसे लोगों का गुरु ग्रह उन्नत हो, तो इन्हें सत्संग या ज्ञान आदि में रुचि होती है। ऐसे लोग बहुत लापरवाह भी होते हैं। इनके जीवन में बहुत परिवर्तन होते हैं। हाथ अगर भारी न हो तो इन्हें अपने जीवन में अत्यधिक संघर्ष के बाद सफलता मिलती है। अगर बुध की अंगुली तिरछी हो, तो ये बातूनी स्वभाव के होते है !


चमसाकार हाथ वाले अनोखे स्वभाव के होते हैं तथा इनके जीवन में तकरीबन सभी प्रसंग घटते हैं, जैसे प्रेम, दोस्ती आदि। इनकी संतान तेज स्वभाव की होती है एवं इन्हें गुस्सा भी बहुत जल्दी आ जाता है। हाथ का
रंग काला और वह पतला होने पर ऐसे लोगों को कानून और जेल संबंधी परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है। ऐसी महिलाओं की दूसरों से कम ही बनती है। ऐसी महिलाओं को खुद झगड़ा मोल लेने का शौक नहीं
होता है पर ये झगड़े में जल्दी पड़ जाती हैं। इनका स्वास्थ्य भी बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है। इन्हें अपने मां-बाप, या पति के मां-बाप, दोनों में से एक का ही सुख मिलता है। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता
है कि चमसाकार हाथ वाले तरक्की अवश्य करते हैं। बडे+-बडे+ वैज्ञानिकों, खोजकारों एवं अन्वेषण करने वालों का हाथ भी कई बार चमसाकार ही पाया गया है। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

कलात्मक हाथ
कलात्मक हाथों की बनावट नर्म होती है ऐसे व्यक्ति उदार, प्रेमी और दयालु होते हैं। सुन्दर वस्तुओं, कलाकारिता, आकृति और रंग से निर्मित सामग्री को प्यार करते हैं। शान, शौकत, नृत्य, संगीत कैबरेडांस वगेरा में ज्यादा दिलचस्पी होती है। तुच्छ और हल्की चीजें इन्हें पसंद नहीं होती तथा ज्यादा बहस व तर्क
वितर्क पसन्द नहीं करते। मानसिक दुर्बलता के कारण कई कार्य करने में असमर्थ होते हैं। व्यवसाय वाणिज्य में ज्यादा चालाक नहीं होते। इन्हें ज्ञान, भावना सुहृदयता होने के बाबजूद प्रवृत्ति से ही ज्यादा काम की ओर
झुकाव होता है। अंगुलियों में गांठ होने से व्यक्ति तार्किक और आलोचनात्मक प्रवृत्ति का होता है। ऐसे लोग मेहनत करके अध्ययन में भी सफल होते हैं। परन्तु इसे अपना मूल आधार समझ कर ये लोग कभी-2 बड़ी भूल कर बैठते हैं। ये व्यक्ति कला क्षेत्र में सफल होते दिखे हैं और यही इनके जीवन का अभिन्न अंग है। व्यवहारिक दृष्टि से ये प्राय: सफल नहीं हो पाते, कारण की इनके स्वभाव में लापरवाही होती है।


आदर्श हाथ
आदर्श हाथ के स्वामी का मस्तिष्क प्रखर एवं तीक्ष्ण बुद्धि होती है यह प्रारम्भिक हाथ के लक्षणों के विपरीत होता है। यह देखने में अति सुन्दर होता है। इस हाथ की महिलाओं को दन्त कथायें सुनना ज्यादा पसन्द
होता है। उनकी बुद्धि तथा कामोद~वेग ये सब आन्तरिक आत्मा से सम्बन्ध रखने वाले हैं। फिजिकल सेक्स इनसे कोशों दूर होता है। हाथ का आकार तो छोटा ही होता है परन्तु अंगुलियों का अनुपातिक सम्बन्ध होता है। ऐसे हाथ मुलायम एवं सुडौल होते हैं। रंग लाल एवं गुलाबी पाया जाता है तथा अंगुलियाँ सुन्दर एवं नख गेहुँए रंग का होता है और अंगूठा छोटा होता है। ऐसे हाथ के स्वामी स्वप्न की दुनिया में विचरण करते हुए अच्छे विचार आदर्श के पुजारी कहे जा सकते हैं। साधारणत: ये आर्थिक सम्पन्न होते हैं तो जीवन काफी सुखी होता है। सेाने के बाद उठते ही चेहरे पर हंसी होना इनकी पहचान और विशेषता है। आर्थिक दृष्टि से ये असफल होते है। यदि ये किसी तरह से धन और आवश्यकताओं के प्रति आश्वस्त हो जायें, तो वास्तव में एक आदर्श बन सकते हैं।  (Nitin Kumar Palmist)

छोटा हाथ
जो हाथ अन्य हाथों की अपेक्षा छोटा हो, वह हाथ छोटा कहलाता है। छोटा हाथ होने पर मस्तिष्क रेखा स्पष्ट और हाथ भारी हो, तो ऐसे लोग बहुत ही कुशाग्र  बुद्धि वाले तथा शीघ्र  ही उन्नति करने वाले होते हैं। छोटे
हाथ वाले अगर भारी हाथ रखते हों, तो बहुत ही चालाकी से काम लेने और बहुत ही सोच-समझ कर खर्च करने वाले होते हैं। ऐसे लोग बेकार अपना समय और पैसा बर्बाद करने वाले नहीं होते हैं। इनकी संतान भी कुछ इसी प्रकार की होती है। ऐसी महिलाएं भी बहुत सोच-समझ कर खर्च करती हैं, कि वसूली पूरी हो जाए। अगर हाथ भारी हो, तो ऐसे पुरुष भी अपने परिवार पर खर्च करते हैं तथा वे फालतू खर्च नहीं करते।

राजनीति में ऐसे लोग बहुत ही सफल होते हैं और अपने नीचे काम करने वाले कर्मचारियों से बखूबी काम लेना जानते हैं। इन्हें सफल प्रशासक भी कहा जाता है। कुल मिलाकर ऐसे हाथों वाले लोग, जिनकी अन्य रेखाएं
स्पष्ट, हाथ का रंग गुलाबी, हाथ भारी हो, बहुत सफल होते है।

मिश्रित हाथ
जिस हाथ में कई प्रकार की अंगुलियाँ पाई जाती हैं उसे मिश्रित हाथ कहते हैं। ये हाथ और अंगुलियां किसी एक प्रकार के नहीं होते। अत: इसमें शुभ और अशुभ दोनों गुण विद्यमान होते हैं। ऐसे व्यक्ति एक ओर दयालु होते हैं और दूसरी ओर क्रोधी होना इनका स्वभाव होता है। बार-2 परिवर्तन इनकी विशेषता होती है। समाज में ऐसे लोगों का कोई सम्मान नहीं होता तथा जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में कठिनता होती है। ऐसे हाथों को किसी एक श्रेणी में नहीं सामिल किया जा सकता। मिश्रित हाथ के स्वामी चतुर तो होते हैं परन्तु बुद्धि का प्रयोग करते समय संयमित नहीं होते हैं। ऐसे लोग कई तरह के कार्य एक साथ ही करते हैं तथा उसे अंजाम देने
के समय कदम लड़खड़ा जाता है और नुकसान कर बैठते हैं। ऐसे हाथ की अनामिका अगर बड़ी होती है, तो जुआ, सट~टा, लाटरी आदि कार्य करते हैं। ऐसे लोग कई क्षेत्रों में प्रतिभा स्थापित करते हैं। स्वत: के विचारों
में विभिन्नता होती है तथा दूसरे के विचारों को सहजता से स्वीकार करते हैं। हर प्रकार के कार्य में खुश रहते हैं और जन समूह में ज्यादा तर्क-वितर्क करने से बचते हैं।, लेकिन अलग-अलग लोगों से बातें करके सबको उल्लू बना सकते हैं। इनके अंगूठे का आकार छोटा होता है, इनका चित्त स्थिर नहीं होता। प्रत्येक कार्य को अंजाम देने से पूर्व मध्य काल में स्थगित कर देना इनका स्वभाव होता है। परिणाम स्वरूप असफलता ही
हाथ आती है और जीवन में निराशापन ज्यादा होता है तथा जीवन में सफलता के लिए अधिकाधिक संघर्ष होता है।

विभिन्न देशों के हाथ की पहचान
(Identification of Hands People of Different Countries)

अनेक देशों के निवासियों और जातियों की शारीरिक बनावट गठन और रंग-रूप में अंतर होता है यही प्रकृति का कार्य, नियम, और गुण है। प्रकृति का जो नियम ओस की बूंद को गोल बनाता है, वही नियम संसार की रचना भी करता है। प्रकृति के कुछ नियम भिन्न प्रकार की सृष्टी करते हैं। इसी कारण वे भिन्न प्रकार के मानव शरीर और हाथ भी बनाते हैं। जिनके गुण अलग-अलग होते हैं। इसी प्रकृति के आधार पर हस्त रेखा अध्ययन से पूर्व यह अनुमान लगाया जाता है कि यह हाथ किस राष्ट्र का है तथा वहाँ की प्रकृति का
वातावरण इसको कितना प्रभावित कर रहा है। ऐसा अनुभव करने के पश्चात~ हस्त रेखा का अध्ययन करना आसान हो जाता है तथा भविष्यवाणी सही होती है। (नितिन कुमार पॉमिस्ट )

नुकीला हाथ
अन्य हाथों के स्वामी के अपेक्षा इस हाथ में धनोपार्जन की क्षमता कम होती है, तथा ये कला-संगीतप्रिय
होते हैं। इनमे  व्यहारिक कुशलता की कमी होती है इनमें यह विशेषता पायी जाती है कि ये भाव प्रधान होते हैं। ऐसे वक्तियो की रुचि काव्य, रोमांस एवं कल्पना के प्रति अधिक होती है। इनके प्रत्येक विचार और कार्यशीलता में आवेश की मात्रा अधिक पायी जाती है। ऐसे हाथ के स्वामी यूनान, आयरलैण्ड, इटली, फ़्रांस , स्पेन, पोलैण्ड, तथा योरोप के दक्षिण भाग में पाये जाते हैं। परन्तु विवाह आदि के कारण ये जातियाँ आज संसार के अनेक भागों में पाये जाने लगे हैं।

वर्गाकार हाथ

वर्गाकार हाथ के स्वामी अधिकतर पक्के मकान, रेल व मस्जिद, मंदिर, पुल, धर्मशाला आदि के निर्माता
होते हैं। ऐसे व्यक्ति लक्ष्य के प्रति एकाग्रचित  होते हैं। ये न ही लकीर के फकीर और न ही भावना शून्य
होते हैं। इन व्यक्तियों  में व्यवस्था के प्रति तर्क, संगीत, प्रेम, अनुशासन तथा रीति-रिवाजों की मान्यता
पायी जाती है। ये ज्यादातर डेनमार्क, हालैण्ड, स्वीडन, स्कॉटलैंड , जर्मनी, इंग्लेंण्ड आदि राष्ट्रों में पाये जाते हैं।

चमसाकार हाथ
इस प्रकार के हाथ के स्वामी नयी-नयी खोज करने वाले तथा कला एवं मशीनों के अविष्कारक होते
हैं तथा इनमें रूढ़िवादिता नहीं होती। ये व्यक्ति  मौलिकता एवं उद्विग्नता के प्रतीक होते हैं। अमेरिका के समृद्धिपूर्ण इतिहास की रचना में इन हाथों का बहुत बड़ा योगदान है। अमेरिका में  अनेक जाति और देशों के निवासी पाये जाते हैं परन्तु जातियों का मिश्रण इसी देश में सर्वाधिक हुआ है। इस कारण यहां चमचाकार हाथों के स्वामी अधिक पाये जाते हैं। (नितिन कुमार पॉमिस्ट )

दार्शनिक हाथ
इस प्रकार के हाथ के स्वामी अनेक कठोर व्रत , नियम, निषेधों को सहन करते हैं, भले ही इन्हें दुनिया पागल
या कुछ और कहे, ये अपने धार्मिक सिद्धान्तों की रक्षा और मान्यता के लिए अपना सर्वस्व समर्पण करने के
लिए तैयार रहते हैं। वास्तव में ऐसे व्यक्ति रहस्यवाद के अनुमोदक और धर्म के प्रति निष्ठावान होते हैं तथा
ईश्वर के रहस्यों को जानने में इनका ध्यान हमेशा लगा रहता है। धार्मिक नेता और आध्यात्मिक प्रवृति के लोगांे का हाथ प्राय: ऐसा ही पाया जाता है। इनमें कानून के प्रति श्रद्धा नहीं होती। ऐसे लोग अपने विचारों के
जल्दबाजी के कारण सफल अविष्कारक होते हैं ये जोखम कार्याें को करने से पीछे नहीं हटते, इनकी परिवर्तन शीलता इनका दोष माना जाता है ये प्राय: मनमानी होते हैं और अपने सनकीपन में अंधे हो जाते हैं परन्तु विज्ञान में इन्हे काफी हद तक सफलता मिलती है। ऐसे हाथों के स्वामी अधिकांशत: पूर्वी देशों में पाये जाते हैं। योरोपीय देशों के लोग इस प्रकार के हाथ वाले लोगों के ऋणी हैं, जिन्होंने बौद्ध मत तथा दर्शन आदि के सिद्धान्तों और विचारों को उन तक पहुँचाया। ऐसे हाथ प्राय: पूर्वी योरोप में पाये जाते हैं।

निम्न श्रेणी का हाथ
इस प्रकार के हाथ के स्वामी में विषमभावना की पाशविकता पायी जाती है तथा ये व्यक्ति भावशून्य या
मूर्ख कहे जा सकते हैं। इनके शरीर के भीतरी मन में महत्वाकांक्षा नहीं होती है। स्नायु केन्दz अविकसित
होता है एवं मनोवृत्ति पशुओं जैसी होती है। इन्हें शारीरिक पीड़ा कम होती है तथा दूसरे के दर्द का अनुभव
नहीं होता है। वास्तव में ये मानव के रुप में दो पैर के पशु कहे जा सकते हैं। कभी-2 सभ्य राष्ट्रों में भी ये हाथ पाये जाते हैं। इन्हें अविकसित हाथ भी कहा जाता है। इस प्रकार का हाथ सभ्य जातियों या वर्गों में कम पाया
जाता है। ऐसे हाथ प्राय: अधिक ठण्डे स्थानों में जैसे रूश का उत्तरीभाग, लेपलैण्ड, आइसलैण्ड आदि भागों में ’’आदिम’’ जातियों में पाये जाते हैं। जिनमें सामाजिक गुणों की कमी पायी जाती है। (नितिन कुमार पॉमिस्ट )

आदर्श हाथ
आदर्श हाथ के स्वामी कठिन कार्यों में असफल रहते हैंं तथा ये कुछ संवेदनशील होते हैं इनके विचार भी
भौतिक पदार्थों के अनुकूल नहीं होते। इनकी कल्पना में वह बुद्धिमता दिखायी देती है जो सभी प्रकार की
चीजों का औचित्य और उपयोगिता निर्धारित करती है। ऐसे हाथ किसी विशेष जाति या देश तक सीमित
नहीं है। ये हाथ लगभग सभी देशों में पाये जाते हैंं। ऐसे लोग अल्प व्यवहारकुशल होते हैं। 



Sunday, September 14, 2014



Hast Jyotish : Mounts & Lines



LINES ON HAND ( HATH KI REKHA )







1) The line of Life - Jeevan Rekha

2) The line of Head - Mastak Rekha
3) The line of Heart - Hridya Rekha
4) The line of Fate - Bhagya Rekha
5) The line of Sun - Surya Rekha
6) The line of Marriage - Vivah Rekha
7) The line of Intuition - Atinendriya Rekha
8) The line of Health - Swasthya Rekha
9) The line of Mars - Mangal Rekha  (http://indianpalmreading.blogspot.com)
10) The Girdle of Venus - Shukar Valay
11) The Rascette - Manibandh


MOUNTS ON HAND ( HATH PAR GRAH )



1) Mount of Jupiter - Guru Parvat
2) Mount of Saturn - Shani Parvat
3) Mount of Sun - Surya Parvat
4) Mount of Mercury - Budh Parvat
5) Mount of Upper Mars - Ucch Mangal Parvat
6) Mount of Lower Mars - Nimn Mangal Parvat
7) Mount of Venus - Shukar Parvat (http://indianpalmreading.blogspot.com)
8) Mount of Luna - Chandra Parvat
9) Plain of Mars - Mangal Ka Maidan
10) Mount of Dragon's Head - Rahu Parvat
11) Mount of Dragon's Tail - Ketu Parvat







शारीरिक स्वास्थ्य हस्त रेखा (Physical Health In Palm Reading)




शारीरिक स्वास्थ्य हस्त रेखा (Physical Health In Palm Reading)


  • जीवन रेखा टूटी हुई और सीढ़ीदार -निरन्तर अस्वस्थ्यता।
  • जीवन रेखा के ठीक बीच शाखापुंज-क्षयग्रस्त शक्तिया ।
  • जीवन रेखा का अन्त क्रास श्रृंखला में, साथ में चौड़ी स्वास्थ्य रेखा अन्त में टूटी हुई-वृद्धावस्था में अस्वस्थ्यता। (http://indianpalmreading.blogspot.com)
  • जीवन रेखा के आरम्भ में द्वीप -वंशागत रोग की सूचक।
  • जीवन रेखा बृहस्पति पर्वत के नीचे जंजीरदार-प्रारम्भिक जीवन में दुर्बलता।
  • लम्बे और पतले नाखून फीकी और चौड़ी जीवन रेखा एवं जंजीरनुमा तथा दूर-2 तक जुड़ी हुई उस पर नीचे की ओर झुकती हुई शाखायें - कमजोरी।
  • बहुत फीकी और चौड़ी हृदय रेखा निकृष्ट  स्वास्थ्य तथा मस्तिष्क रेखा, या जीवन रेखा के अन्त पर क्रास। प्रत्येक उंगली के पहले पर्व पर शिराओं जैसी बहुत सी छोटी-2 रेखाएं-दुर्बल शरीर रचना की द्योतक।  (http://indianpalmreading.blogspot.com)
  • मणिबन्ध की तीनों वलय स्पष्ट तथा जंजीरहीन, जीवन रेखा लम्बी तथा तंग एवं शुक्र पर्वत को घेरती हुई, हृदय  तथा मस्तिष्क रेखायें लम्बी तथा सीधी, दोनों हाथों में मंगल रेखा। सरल बुध रेखा तथा स्वास्थ्य रेखा गौण रेखा से पूर्ण -स्वस्थ्यता की सूचक।
  • स्वास्थ्य रेखा की अनुपस्थिति अच्छी त्रिकोण में स्पष्ट तीसरा कोण-सामान्यत: अच्छा स्वास्थ्य।





रेखाओं का प्रभाव (Effects Of Lines Palmistry)



रेखाओं से लेकर हस्त रेखाओं


शरीर की त्वचा बड़ी संवेदनशील है इसमें ताप, दबाव, दर्द, आदि को शीघ्र जान लेने की क्षमता होती है परन्तु कुछ रेखाएँ अटल होती हैं। उदाहरण के तौर पर एक कुष्ठ रोगी की अंगुलियों में तंत्रिका खोने के कारण परिधि
प्रभावित होती है तथा उसकी संवेदनशक्ति खत्म हो जाती है परन्तु अंगुलियों के पोर पर स्थित रेखाएँ ज्यों की त्यों बनी रहती हैं। (http://indianpalmreading.blogspot.com)

एक शोध के अनुसार ये रेखाएँ लगभग एक खरब सात लाख आदमियों में से सिर्फ दो व्यक्तियों की समान फिंगर प्रिंट हो सकती है। अपराध विज्ञान में अंगुली की एक छाप को दीर्घीकरण करके उसे कई टुकड़ों में विभाजित करके उसके आठ कोण किसी व्यक्ति की छाप से मिल जाने पर वह अंगुली उसी व्यक्ति की मानी जाती है। (Nitin Kumar Palmist)

त्वचा रेखाओं से लेकर हस्त रेखाओं के अनोखेपन ने जहां आज अपराधियों को पकड़ने में सहायता दी है। वहीं इन त्वचा रेखाओं से पैदा होने वाले कुछ रोगों के परिणाम इन त्वचा रेखाओं पर आ झलकते हैं। इनके अध्ययन से आगे होने वाले रोगों की रोकथाम हो सकती है। अंगुलियों के पोर पर सामान्यत या कई तरह के चित्र पाये जाते हैं, जो साहित्य के अनुसार लगभग 50 प्रकार के हैं। पृथ्वी पर लगभग 6 अरब मनुष्यों की आबादी है जिनमें से एक-दूसरे की चेहरे व रेखाएँ समान नहीं होते। चाहे वे जुड़वा भाई ही हों उनका चरित्र, हाथ की रेखाएँ, अन्य, व्यक्तिव सबका सब अलग-अलग होता है।



Friday, September 12, 2014



Priyanka Chopra Palmistry



priyanka chopra nude palm reading priyanka chopranude  priyanka chopra neud  priyanka chopra nudr  priyanka chopra nudu  priyanka chopra nedu  priyanka nuds  priyanka chopra nube  priyanka nedu  priyanka chopra nute  priyanka neud  neud priyanka  priyanka chopranude photo  priyanka chopra nade  priyanka nue  priyanka chopra nde  priyanka chopra necked photo  priyanka chopra nud  priyankachopranude  nacked photo of priyanka chopra  priyanka chopra newd  nacked priyanka  priyanka chopra nyde  priyanka nudu  priyanka chopra nufe  priyanka chopra niud  priyanka chopra nakef  priyanka chopra nuked  priyanka nube  priyanka chopra nued  priyanka nud
priyanka chopra armpit photos  priyanka chopra underarms images  priyanka chopra underarms  priyanka chopra armpit images  priyanka chopra underarm hair  priyanka armpit  priyanka chopra armpit pics  priyanka chopra armpit hair  bollywood armpits  priyanka chopra hairy armpit  priyanka chopra underarms photos  priyanka chopra underarms pics  priyanka chopra armpit hair photo  priyanka chopra armpit pictures  armpit of priyanka chopra  actress armpits  priyanka chopra armpit show  priyanka chopra sweaty armpits  katrina kaif armpit  armpit bollywood  priyanka underarms  actress hairy armpits  kareena kapoor armpit  hairy armpit video  sonakshi sinha armpit  armpit pictures of bollywood actresses  parineeti armpit  actress armpit photos  armpit actress  bollywood actress underarm hair photos

priyanka chopra  priyanka chopra photo  priyanka chopra mms  priyanka chopra video  priyanka chopra saxy  priyanka chopra video song  priyanka video  saxy priyanka  priyanka chopra saxy photo  priyanka saxy  priyanka chopra saxy video  priyanka chopra sxe  priyanka sxe  priyanka chopra sixy  priyanka video songs  priyanka chopra sxy  saxy priyanka chopra  priyanka chopra sxey  kareena kapoor  video priyanka chopra  priyanka  priyanka sixy  photos of priyanka  priyanka saxy video  priyanka chopra in bikini  priyanka chopra sxy photo  priyanka sxy  priyanka chopra kissing  priyanka chopra sx  videos of priyanka chopra

priyanka image  priyanka chopra thighs  hot pic of priyanka chopra  priyanka chopra saree  saxy photo of priyanka  www priyanka chopra  priyanka chopra feet and legs  photos of priyanka chopra  priyanka chopra in saree  priyanka chopra photo  priyanka chopra bf  priyanka chopra marriage  priyanka chopra wallpaper  priyanka chopra thigh pics  photo priyanka chopra  images of priyanka chopra  priyanka chopra video song  priyanka chopra images  priyanka legs  priyanka chopra video  priyanka chopra legs pics  priyanka chopra plastic surgery  priyanka chopra  priyanka chopra hd wallpaper  priyanka chopra kiss  priyanka chopra xnxx  priyanka chopra biography  priyanka  priyanka chopra songs  priyanka chopra saxy photo

priyanka chopra boobs  priyanka chopra plastic surgery  priyanka boobs  priyanka chopra feet  priyanka chopra bra  priyanka chopra weight  priyanka chopra bra size  priyanka chopra surgery  boobs of priyanka chopra  priyanka chopra body  priyanka chopra figure  priyanka chopra lip surgery  priyanka chopra figure size  priyanka chopra height and weight  priyanka chopra cosmetic surgery  priyanka chopra size  priyanka breast  priyanka chopra boobs pics  priyanka chopra breast surgery  priyanka plastic surgery  priyanka age  priyanka chopra breast size  priyanka chopra's boobs  priyanka chopra bra cup size  priyanka chopra biodata  priyanka chopra open body photo  bra size of priyanka chopra  priyanka chopra boobs photos  priyanka height  priyanka chopra body shape

parineeti  priyanka chopra family  priyanka chopra's sister  priyanka chopra sister name and photo  priyanka chopra sister name  priyanka chopra sister photo  chopra sisters  sister of priyanka chopra  priyanka sister  priyanka chopra family photos  priyanka chopra cousin  chopra parineeti  parineeti and priyanka chopra  priyanka chopra birthdate  priyanka chopra saree  priyanka and parineeti  priyanka chopra and her sister  photos of priyanka chopra  priyanka chopra in saree  priyanka chopra photo  parineeti and priyanka  priyanka chopra bf  priyanka chopra marriage  priyanka chopra sister meera chopra  priyanka chopra wallpaper  chopra priyanka sister  photo priyanka chopra  priyanka chopra real sister  images of priyanka chopra  priyanka chopra video song
                                                 
  marriage lines age, fate line starts from life line, two marriage lines on palm, death line in hand, shahrukh khan hand palmistry, palmistry line of intuition, हस्तरेखा विद्या, palmistry success line, fate line reading, foreign settlement palmistry, sun line joins fate line, remedies of black magic, विवाह रेखा, shahrukh khan palm lines, palmistry signs, aditya hridayam, double fate line in hand

priyanka chopra panties  priyanka panty  priyanka chopra panty show  priyanka chopra underwear  priyanka chopra saree  photos of priyanka chopra  priyanka chopra photo  priyanka chopra undergarments  priyanka chopra wallpaper  photo priyanka chopra  transparent skirt  priyanka chopra video  katrina kaif without bra photos  priyanka chopra panty visible  priyanka chopra  priyanka chopra kiss  priyanka chopra showing panty  priyanka chopra songs  about priyanka chopra  priyanka chopra showing her panty  kareena kapoor without bra photo  priyanka chopra latest  images of katrina kaif without bra  katrina kaif photos without bra  wallpaper priyanka chopra  pics of priyanka chopra  priyanka chopra bra panty  pictures of priyanka chopra  wallpaper of priyanka chopra  priyanka chopra dresses


priyanka chopra biography  priyanka chopra weight  priyanka chopra bra size  priyanka chopra feet  priyanka chopra age  priyanka chopra breast  priyanka chopra date of birth  priyanka chopra diet  priyanka chopra family  priyanka chopra measurements  priyanka chopra figure size  priyanka chopra biodata  priyanka chopra size  biography of priyanka chopra  priyanka chopra body  priyanka chopra breast size  priyanka chopra bra cup size  bra size of priyanka chopra  priyanka height  priyanka chopra first movie  priyanka chopra figure  priyanka chopra filmography  priyanka bra  priyanka bra size  priyanka chopra birthday  priyanka chopra body measurements  priyanka chopra body size  priyanka chopra height weight bra size  priyanka chopra height and weight  priyanka chopra cup size
priyanka chopra ki gand ki photo  priyanka c  katrina nud  about priyanka chopra  priyanka chopranude  priyanka chopra bollywood  priyanka chopra exotic  priyanka chopra ki gand photo  pryankachopra  bollywood priyanka chopra  priyankachopranude  priyanka ch  priyanka chopra singing  priyanka chopra gand photo  priyanka chopra boobs  priyanka exotic  priyanka chopra ki gand mari  priyanka chopra ki gand  priyanka ki gand mari  boobs of priyanka chopra  pianka chopra  priyanka ki gand ki photo  parineety chopra  priyanka nud  priyanka chopra ki photo  perniti chopra  priyanka ki gand  pareneti chopra  bollywood priyanka  priyanka chopra exotic review

priyanka chopra without makeup, priyanka chopra nose job priyanka  prinka chopra  prianka chopra  pryanka chopra  priyanka chopda  priyanka chopra photo  priyanka copra  priyanka chopara  prinka  priyaka chopra  priyanka chopra biography  priyanka chopra wallpaper  priyanka chopra images  priynka chopra  priyanka chopada  piryanka chopra  photos of priyanka chopra  priyanka chopra movies  priyanka photo  priyanka chopra video  priyka  paryanka chopra  preyanka chopra  priyank chopra  priyanka chopra songs  piryanka  prinkya chopra  priyanka choopra  prinka chopara
 TAGS

Thursday, September 11, 2014



Bow Sign On Life Line | INDIAN PALMISTRY







A bow sign represents an strong support of someone from family.  Property and financial help from in-laws.



जानिये क्या कहती है आपकी सूर्य रेखा ?



सूर्य रेखा


चित्र कल प्रकाशित किये जायेंगे 

यह रेखा हथेली की आवश्यक रेखाओं में से एक है, इसे सूर्य रेखा, रवि रेखा, यशरेखा आदि नामों से जानी जाती है। यह रेखा व्यक्ति के जीवन के मान, प्रतिष्ठा, यश, पद, ऐश्वर्य आदि को दर्शाती है।

व्यक्ति के हाथ में जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और हृदय  रेखा कितनी ही शक्तिशाली क्यों न हो किन्तु उसके हाथ में श्रेष्ठ सूर्य रेखा न हो तो वह सब व्यर्थ है। हस्त रेखा विशेषज्ञ को इस रेखा का विशेषत: अध्ययन करना
चाहिए, यह रेखा आमतौर पर सूर्य पर्वत के नीचे होती है। इस रेखा के बारे में ध्यान देने का विषय है कि यह रेखा चाहे कहीं से भी शरू हो पर जिस रेखा की समाप्ति सूर्य पर्वत पर होती है वही सूर्य रेखा कही जाती है। यह
रेखा धन, सम्मान, कलात्मक प्रतिभा तथा वैभव करने वाली रेखा है। इसी रेखा द्वारा शनि रेखा पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है, दूसरे शब्दों में शनि रेखा को सर्वाधिक प्रभावित करने वाली रेखा सूर्य रेखा है।

इस रेखा का न होना किसी तरह भी अशुभ या असफलता का संकेत नहीं है। परन्तु इसकी अनुपस्थिति में संघर्ष और परिश्रम अधिक करना होता है।

लम्बी सूर्य रेखा व्यक्ति को सम्मान, प्रतिभा और अधिकार दिलाती है।

इस रेखा पर नक्षत्र होने से सुख, सौभाग्य, सफलता प्राप्त होती है।

इस रेखा पर वर्ग होने से मान सम्मान की क्षति से रक्षा होती है।

इस रेखा पर द्वीप हो तो मान मर्यादा को क्षति, पद को नष्ट करती है।

अन्य रेखाओं की भांति यह भी पर्वतों से आकर्षित, प्रभावित होती है।

विचलित सूर्य रेखायें मंगल के निम्न पर्वत पर भी उदय होती है।

जीवन के जिस आयु में सूर्य रेखा मोटी हो, यशार्जन का समय होगा।

बुध चतुराई, शनि अध्यवसाय, सूर्य यश और प्रतिभा प्रदान करता है।

शनि रेखा से शुरु होने वाली सूर्य रेखा होने से व्यक्ति को अनेक संघषो से सफलता और लक्ष्य की प्राप्ति होती है।

1. अ. यदि सूर्य रेखा, हृदय रेखा से आरम्भ हो तो उसे प्रतिभा और विशिष्टता 50 वर्ष के उम्र पश्चात प्राप्त होती है।

1.ब. सूर्य रेखा जीवन रेखा से आरम्भ होने पर व्यक्ति सौन्दर्योपासक होता है।

1.स. सूर्य रेखा, चन्द्र  रेखा से आरम्भ होने पर सफलता मिलती है। परन्तु दूसरों के सहारे से क्योंकि व्यक्ति दूसरे पर निर्भर होता है।

2.अ. यह रेखा चन्दz क्षेत्र पर -हजयुकी हो, तो प्राय: काव्य, उपन्यास, शायर, कवि, राजनीतिज्ञ, गायक आदि बनाती है।

2.ब. यदि यही रेखा शीर्ष रेखा से आरम्भ होती है, तो व्यक्ति को बौद्धिक क्षमता के द्वारा 35 वर्ष की उम्र  के बाद सफलता प्रदान करती है।

2.स. यदि अनामिका, मध्यमा के बाराबर हो, सूर्य रेखा लम्बी हो, व्यक्ति धन और विद्या उक्त  होता है तथा जुआ और खतरों भरा कार्य पसंद करता है।

3.अ. यदि सूर्य रेखा हथेली से आरम्भ हो तो व्यक्ति को कठिनाइयों का सामना करने के बाद सफलता मिलती है।

3.ब. यदि सूर्य रेखा भाग्य रेखा से आरम्भ हो तो जिस आयु में सूर्य रेखा भाग्य रेखा से उठती है उस आयु में उन्नति प्राप्त होती हैं। यह रेखा कला क्षेत्र में सहयोग करती है तथा कुछ विद्वानों के मत से यह राज योग होता है।

3.स. यदि सूर्य क्षेत्र पर अनेक रेखायें हो तो व्यक्ति अधिक कल्पनाशील और कलाप्रिय होता है पर पूर्ण सफलता कम प्राप्त कर पाता है।

1.शुक्र क्षेत्र- शुक्र क्षेत्र से निकलने वाली सूर्य रेखा की यह प्रथम अवस्था होती है यह जीवन भाग्य, मस्तिष्क एवं ह्रदय रेखा को काटती हुई सीधी अपने स्थान रविक्षेत्र पर पहुंचती है। शुक्र क्षेत्र प्रेम का प्रतीक है, स्त्री
का द्योतक है। इस कारण उसकी उन्नति किसी महिला के द्वारा होती है, वही उसको भूमि, सम्पदा, धन आदि से सम्पन्न करती है। यह स्त्री स्वयं की पत्नी या प्रेमिका हो सकती है जो कि पवित्र प्रेम करती है।

2.जीवन रेखा क्षेत्र- इससे निकलने वाली रेखा व्यक्ति को कलात्मक बनाती है, उसकी यह कला विभिन्न रूप धारण करती है और विभिन्न श्रोतों से उसका परिचय देती है। वह एक सिद्ध हस्त दस्तकार, दर्जी, शिक्षक, शिल्पी, गायक और संगीतज्ञ, तान्त्रिक तथा अभिनेता हो सकता है, इनकी कलाओं में आकर्षण होता
है।

यह कला इन्हे यश प्रदान करती है, किन्तु इन्हें परिश्रम द्वारा ही धन प्राप्त होता है, इन्हें सामान्य धनाभाव भी होता है। ये सौन्दर्य के अंधे और परम उपासक होते हैंं। इन्हे परिवार द्वारा सफलता नहीं मिलती, ये स्वत: के
बलबूते पर उन्नति करते हैं तथा स्वावलम्बी होते हैं। इनके माता-पिता कम, शिक्षा के स्वामी होते हैं, निर्धन निष्क्रिय और संसार विरक्त भी पाये जाते हैं। सात्विक हाथ में यह रेखा अच्छी और  हाथों में सामान्य
मानी जाती है।

3.मष्तिष्क रेखा क्षेत्र -इस क्षेत्र से शुरू होने वाली सूर्य रेखा का स्वामी अद~भुत कार्यकर्ता होता हैं। ऐसे व्यक्ति विशेष मस्तिष्क के स्वामी होते हैं। ये प्राय: महानपुरुष, प्रतिभाशाली, दिव्यज्ञानी, साहित्यिक, वैज्ञानिक आदि होते हैं। ऐसे लोगों का कार्य बड़ी सू-हजय बू-हजय से सम्पन्न होता है तथा उस कार्य की
विशेषता को मानव समुदाय हमेशा स्मरण रखता है। कभी-कभी ऐसे लोगों को मध्य आयु में सफलता प्राप्त होती पायी गयी है। अगर ये व्यापारी होते हैं तो खूब धन, कलाकार होते हैं तो खूब यश प्राप्त
करते हैं।

4. मंगल क्षेत्र- मंगल क्षेत्र से निकलने वाली सूर्य रेखा वीरता एवं चेतना को प्रदान करती है, जिनमें यह रेखा विद्यमान होती है वे हमेशा उत्साही, साहसी, आशावान, निडर और वाचाल होते हैं। इनमें निरन्तर आत्मविश्वास की लहर दौड़ती रहती है तथा आपत्तियों का मुकाबला करने से नहीं डरते, इनमें हठ भी पाया जाता है परन्तु जिस कार्य को हठ भावना से करते हैं उसमें सफल भी पाये जाते हैं। कभी-कभी विद्रोह की भावना भी जाग्रत होती है तथा रीतिरिवाजों के खिलाफ रहना इनकी विशेषता है। इनका âदय एक ओर
कठोर और दूसरी ओर कोमल होता हैं ये न्याय के प्रति हमेशा उतावले रहते हैं तथा न्याय के लिए स्वत: की बलि देना अपना कर्तव्य सम-हजयते हैं। युद्ध स्थल में ये सफल सैनिक प्रमाणित होते हैं। ये लोग
विषम परिस्थिति में भी अपने मनोबल और बैभव से सफल पाये जाते हैं।

5. ह्रदय रेखा क्षेत्र-ह्रदय क्षेत्र से शुरु होने वाली सूर्य रेखा के स्वामी कलाकारी, नाटक, कहानी, उपन्यास, काव्य, आदि कार्यो से लाभ कमाते हैं। यह रेखा उन्हें प्रौ-सजय+ अवस्था में सफलता देती है। ऐसे व्यक्ति आरम्भ काल
में सुखी एवं सम्पन्न नहीं होते । इस समय समाज में उन्हें निन्दा आदि का सामना करना पड़ता है। ऐसी स्थिति में पिछला समय उनका अंधकारमय कहा जा सकता है। इस काल में उन्हें विफलता और अनेक अपयश का सामना करना पड़ता है तथा मन प्रसन्न नहीं रहता उनके चेहरे पर प्रफुल्लता नहीं होती, उदासी उन्हें खूब प्रताड़ित करती है, जिससे वे ब्याकुलता अनुभव करते हैं।

किन्तु इनका जीवन बाद में सुखमय होता है, समाज में सम्मान एवं यश मिलता है तथा उनकी रचना, या कार्य इस समय सराहनीय हो जती है। कुछ लोग ऐसे भी पाये गये हैं, जिन्हे संघर्ष करते-करते मृत्यु हो गयी, बाद
में उनके कायो± का फल उनके पुत्रादि को प्राप्त होता है। उन्हें जीते जी न कीर्ति मिलती है और न ही विपुल धन राशि। यदि âदय रेखा से शुरु होने वाली सूर्य रेखा दोषी हो तो अपयश तथा दु:ख प्राप्त होता है वे
दर-बदर ठोकरें खाते हैं।

उनकी कला ही बला बन जाती और गति को अवरुद्ध कर देती है, कुछ कलाकार ऐसी स्थिति में पागल भी होते पाये गये हैं। उनकी मृत्यु भी भयानक और अशोभनीय होती है, जीवन का संघर्ष ही उनकी मृत्यु का कारण
बन जाती है।

6.मणिबन्ध क्षेत्र-मणिबन्ध से शुरू होने वाली सूर्य रेखा बड़ी उत्तम और उन्नत मानी जाती है, यह रेखा सर्व साधारण के हाथों में नहीं पायी जाती, यह रेखा भाग्यशाली होने का संकेत है। ऐसी रेखा, आदर, प्रतिष्ठा, प्रतिभा, सत्कार, उच्चाधिकार आदि प्रदान कराती है। ऐसे लोगों के कार्यक्षमता का तारतम्य कभी नहीं टूटता। ऐसे लोगों की योजनायें सफल होती हैं तथा ये दानशील, न्यायप्रिय, परोपकारी एवं कलाविज्ञ होते हैंं। सफलता का अवसर स्वत: चलकर इनके पास आता है। ऐसे व्यक्ति स्वतंत्र एवं वकील, डाक्टर, इन्जीनियर, व्यापारी, अभिनेता, आदि होते हैं, ऐसे लोग सरकारी नौकरी वाले भी होते हैं जो कि उच्च पद
प्राप्त करते हैं।

7.राहु क्षेत्र-राहु क्षेत्र से शुरू होने वाली सूर्य रेखा के व्यक्ति स्वतंत्र, व्यवसायी तथा लोभी होते हैंं, ऐसे मनुष्य उच्च स्तर के कवि, लेखक, सम्पादक हो सकते हैं। कभी -कभी एक से अनेक कार्य एक साथ करते हैं। सूर्य
रेखा यदि राहु क्षेत्र पर आकर टूट जाय या श्रृंखलाबद्ध हो जाये अथवा द्वीप हों तो व्यक्ति निकम्मा, निठल्ला अवगुण वाला एवं असफल होता है। ऐसी स्थिति में यदि सूर्य की अंगुली का प्रथम पोर लम्बा, चौड़ा और सुडौल होगा तो व्यक्ति में कलाकारी, अविष्कार, वैज्ञानिक, चित्रकारी आदि का गुण पाया जाता है। यदि पहले की अपेक्षा दूसरा पोर अधिक बड़ा होगा, तो व्यक्ति प्रसिद्ध व्यापारी होता है।

यदि सूर्य अंगुली पर वर्ग और समकोण चतुथा±श हो तो व्यक्ति राजनीति के क्षेत्र में अधिकाधिक
सफल होता है और अपने कायो± से महान कहलाता है।

8.केतु क्षेत्र-केतु क्षेत्र से शुरू होने वाली सूर्य रेखा व्यक्ति को अधिकाधिक सुख प्रदान करती है । ऐसे व्यäियों को कमा-कमाया धन प्राप्त होता है। दौलतमंद लोगों द्वारा उन्हें गोद भी लिया जा सकता है, ये पूर्वजों के जायदाद सम्पदा के मालिक बनते हैं। ऐसे लोगों को अधिक परिश्रम नहीं करना पड़ता तथा समाज में
प्रतिष्ठा मिलती है और ये साहूकार होते हैं।

यह सब होते हुए भी ये मन के अशुद्ध और मैले होते हैं, पापी होते हैं अधिक -हजयूंठ एवं वासना के पुतले होते हैं। अपने कंधे पर गुनाह और वासना का बो-हजय लादे रहते हैं। धन की अधिकता से ये अनेक व्यसन, औरत खोरी, शराब खोरी आदि कई बुरी आदतों के शिकार होते हैं और दौलत के आगे ये किसी की भी परवाह नहीं करते।


सौजन्य  . सरल हस्तरेखा पुस्तक 





Aghori Sadhu - Agori Baba - Aghori Baba - Tantrik Baba Palm Images Palmistry




aghori, naga sadu, khumb naga sahdu, khumb naga sadhu, kumbh naga sadhu


aghori, naga sadu, khumb naga sahdu, khumb naga sadhu, kumbh naga sadhu


aghori sahdu,sex trantra, naga sadu, khumb naga sahdu, khumb naga sadhu, kumbh naga sadhu

aghori baba





PALM READING SERVICE


SEND ME YOUR PALM IMAGES FOR DETAILED & PERSONALIZED PALM READING



Question: I want to get palm reading done by you so let me know how to contact you?
Answer: Contact me at Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in.


Question: I want to know what includes in Palm reading report?

Answer: You will get detailed palm reading report covering all aspects of life. Past, current and future predictions. Your palm lines and signs, nature, health, career, period, financial, marriage, children, travel, education, suitable gemstone, remedies and answer of your specific questions. It is up to 4-5 pages.



Question: When I will receive my palm reading report?

Answer: You will get your full detailed palm reading report in 9-10 days to your email ID after receiving the fees for palm reading report.



Question: How you will send me my palm reading report?

Answer: You will receive your palm reading report by e-mail in your e-mail inbox.



Question: Can you also suggest remedies?

Answer: Yes, remedies and solution of problems are also included in this reading.


Question: Can you also suggest gemstone?

Answer: Yes, gemstone recommendation is also included in this reading.


Question: How to capture palm images?

Answer: Capture your palm images by your mobile camera or you can also use scanner.


Question: Give me sample of palm images so I get an idea how to capture palm images?

Answer: You need to capture full images of both palms (Right and left hand), close-up of both palms, and side views of both palms. See images below.



Question: What other information I need to send with palm images?

Answer: You need to mention the below things with your palm images:- 



  • Your Gender: Male/Female 
  • Your Age: 
  • Your Location: 
  • Your Questions: 

Question: How much the detailed palm reading costs?

Answer: Cost of palm reading:


  • India: Rs. 600/- 
  • Outside Of India: 20 USD

( For instant palm reading in 24 hours you need to pay extra Rs. 500 or 15 USD ) 
(India: 600 + 500 = Rs. 1100/-)
(Outside Of India: 20 + 15 = 35 USD) 

Question: How you will confirm that I have made payment?

Answer: You need to provide me some proof of the payment made like:

  • UTR/Reference number of transaction. 
  • Screenshot of payment. 
  • Receipt/slip photo of payment.

Question: I am living outside of India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for International Clients:

International clients (those who are living outside of India) need to pay me 20 USD via PayPal or Western Union Money Transfer.

  • PayPal (PayPal ID : nitinkumar_palmist@yahoo.in)
    ( Please select "goods or services" instead of "personal" )
  • PayPal direct link for $20 (You will get reading in 9/10 days) - PayPal Payment 20 dollars
    PayPal direct link for $35 (You will get reading in 24 hours) - PayPal Payment 35 dollars
  • Western Union: Nitin Kumar Singhal from Jodhpur, Rajasthan.

Question: I am living in India so what are the options for me to pay you?


Answer: Payment options for Indian Clients:

  • Indian client needs to pay me 600/- Rupees in my SBI Bank via netbanking or direct cash deposit.

  • SBI Bank: (State Bank of India)
       Nitin Kumar Singhal
       A/c No.: 61246625123
       IFSC CODE: SBIN0031199
       Branch: Industrial Estate
       City: Jodhpur, Rajasthan. 



  • ICICI BANK: 
      (Contact For Details)

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in



FREE PALMISTRY ARTICLES


In this palmistry website you will find palmistry articles in both Hindi and English languages with pictures, figures and diagrams. If you are interested in palmistry and want to become an expert then this blog will be helpful for you and guide you how to read palms.

You can learn basics of palmistry, lines on hand, signs on hand, and you can learn about Indian Palmistry here.


लाल किताब के प्रभावशाली टोटके


यदि आप पारिवारिक या व्यवसायिक समस्या से मुक्ति पाना चाहते है तो यहाँ दिए गए उपायो को एक बार अवश्य करें । आपको अवश्य लाभ होगा । आज अधिकतर लोग किसी न किसी परेशानी से ग्रस्त है । किसी को व्यापार में घाटा हो रहा है , किसी को नौकरी नहीं मिल रही है , कोई भूत-प्रेत या ऊपरी हवाओ से परेशान है, कोई संतान के न होने से दुखी है तो कोई भयंकर रोगो से ग्रस्त है ।

यहाँ पर प्राचीन टोन टोटके द्वारा  अनेक समस्याओ का समाधान प्रस्तुत किया गया है ।

राशि रत्न



अपना राशि रत्न प्राप्त करें । सभी राशियों के रत्न लैब से प्रमाणित  मिलते है । यदि आप अपना राशि रत्न लेना चाहते है तो व्हाट्सप्प पर संपर्क करें ।

Whatsapp No:- 8696725894




Client's Feedback - June 2017



If you don’t have your real date of birth then palmistry is there to help you for future life predictions.  Our palm lines, signs, mounts and shapes which are very useful in predicting the person’s life. We can predict your future from the lines and signs of your both palms. We can predict your future by studying your palm lines and signs. There is no need to send us your date of birth , time of birth , place of birth etc . Palm told the personality ,future ups and downs thus a experienced palmist can guide you to deal with upcoming challenges with vedic remedies.

My Website: http://www.indianpalmreading.com